Monday, August 30, 2010

मुझे ऐसे शिष्यों की आवश्यकता नहीं हैं, जिनमें कायरता हो, विरोध सहने की क्षमता न हो.





"मुझे ऐसे शिष्यों की आवश्यकता नहीं हैं, जिनमें कायरता हो, विरोध सहने की क्षमता न हो. जो जरा सी विपरीत स्थिति प्राप्त होते ही विचलित हो जाते हो. मुझे तो वे शिष्य प्रिय हैं, जिनमें बाधाओं को ठोकर मारने का हौसला होता हैं. जो विपरीत परिस्थितियों पर छलांग लगाकर भी मेरी आज्ञा का पूर्ण रूप से पालन करने की क्रिया करते हैं, जो समस्त बंधनों को झटक कर भी मेरी आवाज़ को सुनते हैं.... और ऐसे शिष्य स्वत: ही मेरी आत्मा का अंश बन जाते हैं, उनका नाम स्वत: ही मेरे होंठों से उच्चरित होने लगता हैं और वे मेरे हृदय की गहराइयों में उतर जाते हैं. वास्तव में जो दृढ निश्चयी होते हैं, वे समाज को ठोकर मार कर, सभी बंधनों को तोड़ते हुए एवं सभी बाधाओं को पार करते हुए गुरु चरणों का सानिध्य प्राप्त कर ही लेते हैं और सेवा व 

साधनाओं को अपने जीवन में स्थान देकर परम सत्य के मार्ग पर गतिशील हो जाते हैं. - परमहंस स्वामी

अनंत देवी देवता हैं, अनंत उपासना पद्धति है, कहाँ कहाँ जाकर सिर झुकाओगे, किन किन दरवाज़ों पर जाकर नाक रगडोगे, जीवन के दिन तो थोड़े से ही हैं, गिनती के हैं. वे तो ऐसे ही समाप्त हो जायेंगे, फिर क्या मिलेगा? जीवन यूँ ही भटकते हुए मंदिरों में , तीर्थों में, साधू सन्यासियों के पास समाप्त हो जायेगा. यदि तुम्हें सदगुरु मिल गये हैं, तो सब कुछ छोड़कर उनके चरण क्यूँ नहीं पकड़ लेते.

निखिलेश्वरानंदजी महाराज डॉ. नारायण दत्त श्रीमालीजी

5 comments:

anil gupta said...

guru ji parnam
gurudav aap hame aisa marg batye jo aap trimurti alag ho gaye hain aisa may ham sadhak apas may jhagad rahe hay ki yhe ache hay woh bure hay aisi stith may ham sab kya kare.
anil nikhel lmp

anil gupta said...

guru ji parnam
guruji ham sab shadhak apki sisyata kay liye aapse prathna kar rahe hay hame apni saran may sadeve banye rakhiga

Hirendra Pratap Singh said...

Jay Sad GURU
# 3 sad guru aap ke liye hi alag hai kyon 1 kaha kaha jayega lakho logo ko kese manege kiya ja sakta hai . so esi liye sad guru ne kaha aap 1 ho ke bhi 3 ban jaoo alag alag ho kar free ho kar aapna aim pura kare jis zada se zada shisya log jod sake aur unko margdarshan kiya ja sake aap log kis baat ke liye lad rahe hai ....3 ek hi hai aap ko bas samjhne ki jaruart hai ki aap kay samjh rahe hai.......ye paap hai jo esa vichar karte hai wo alag ho gaye hai

Hirendra Pratap Singh said...

aap ka kaam hai sadhna karna aur aur un sadhna se aapni aur sad guru ki seva kar sake jis ham darm ko end hone se bacha sake yahi sadguru wish karte hai ki sabhi sukhmay jeevan ji sake

Deepak Gaur said...

Jab tino ek sath the tab log kehte they ke sirf Nand kishore hi kyoun bolte hai shiviro main etc etc ab kehte hai alag hogaye, jhagda hogaya hai etc etc.
Matlab problem pehle bhi thi ab bhi hai. Swayam ko kita parivartit kiya pata nahi, swayam kitni sadhana ki - koi nahi, swayam ne guru ke shabdo kitna jeevan main utara - jawab wahi - kuch khaas nahi.
Aur fir aisi baat kerte hai. Aatm manthan ki bhi awashyakta hai ke gurudev kya chahte hai ya hum kaise unke karyoun sahayak bane. Naki anye vivado main uljhein.
Jai Gurudev