Saturday, May 18, 2019

surya samohan proyog dikksha proyog


ganpati manokamna prayog गणपति पूजन एवं मनोकामना पूर्ति प्रयोग १

गणपति पूजन एवं मनोकामना पूर्ति प्रयोग   १


//youtu.be/iRozb8STTpY


dhran prapti proyog chamtkari mantra tantra पूजन एवं मनोकामना पूर्ति प्रयोग

 पूजन एवं मनोकामना पूर्ति प्रयोग 



"संगति


एक विद्वान ने कहा है, “जल जैसी जमीन पर बहता हैउसका गुण वैसा ही बदल जाता है। मनुष्य का स्वभाव भी अच्छे-बुरे विचारों केलोगों की संगति के अनुसार बदल जाता है। इसलिए चतुर मनुष्य बुरे लोगों का साथ करने से डरते हैंलेकिन मूर्ख व्यक्ति बुरे आदमियोंके साथ घुल-मिल जाते हैं और उनके संपर्क से अपने आपको भी दुष्ट बना लेते हैं। मनुष्य की बुद्धि तो मस्तिष्क में रहती हैकिंतुकीर्ति उस स्थान पर निर्भर रहती है जहां वह उठता-बैठता है और जिन लोगों या विचारों की सोहबत उसे पसंद है। आत्मा की पवित्रतामनुष्य के कार्यों पर निर्भर हैऔर उसके कार्य संगति पर निर्भर हैं। बुरे लोगों के साथ रहने वाला अच्छे काम करे यह बहुत कठिन है। धर्मसे स्वर्ग की प्राप्ति होती हैकिंतुधर्माचरण करने की बुद्धि सत्संग या सदुपदेशों से ही प्राप्त होती है। स्मरण रखिए कुसंग से बढ़करकोई हानिकर वस्तु नहीं है तथा संगति से बढ़कर कोई लाभ नहीं है।

"Companionship

A learned man has said: “Water acquires the quality of land upon which it flows”. The same way, the nature of man too, changes according to the company of people having good or bad thoughts. Therefore, wise men avoid contacts with bad people but foolish persons mingle with bad people and spoil themselves. A man’s wisdom depends on his brain, but his prestige and status usually depend upon his surrounding and choice of people. The sanctity of the soul is derived from a man’s deeds which are ultimately induced by the company he keeps. A person doing good in spite of bad company is very rare and difficult. Religion can take you to heaven, but wisdom for practicing religion is obtained from good company and sermons of learned men only. Please remember that nothing is more harmful than bad company and nothing is more beneficial than a good generous companionship. - 




"तीन लोक नौ खंड में गुरु से बड़ा  कोई

करता करे  कर सकेगुरु करे सो होए !

शिष्य के लिए तो गुरु शब्द का उच्चारण ही पर्याप्त है।" - नन्द किशोर श्रीमाली जी


JAI GURUDEV,aaj bahut dino baad kuch post daal raha hun,maine notice kiya hai ki PUJYA SADGURUDEV SWAMI NIKHILESHWARANAND JI k PUJYA GURUDEV - - PUJYA DADA GURUDEV JI MAHARAJ SWAMI SACHCHIDANAND JI k chitra ko lekar internet per kuch galat fehmi hai,plz aap sab samajh lijiye ki SADGURUDEV ne apni magazine mey DADA GURUDEV JI ka chitra agar nahin diya hai toh internet se kisi milte julte naam wale sadhu/sanyasi k chitra ko DADA GURUDEV JI ka chitra samajhana galat hai,paap hai,mai 1993 sey SADGURUDEV NIKHIL JI ki mantra-tantra-yantra vigyan patrika padh raha hun aur aaj GURU-TRIMURTI ki 3 magazines hain jisme jahan tak mujhe yaad hai DADA GURUDEV JI ka chitra nahin diya gaya hai,agar 1993 sey poorv diya gaya ho to mujhe gyat nahin hai,aaj ek gurubhai ney mujhe bataya ki internet k kisi blog sey usne ek chitra nikalkar usey DADA GURUDEV JI ka chitra maankar apne puja sthaan mey rakh kar pujan shuru kar diya hai,ab ek jaruri baat - - SWAMI SACHCHIDANAND STAVAN mey SADGURUDEV ney spasth kaha hai ki MAA SARASWATI kehti hain ki DADA GURUDEV JI ka varnan karna mere liye sambhav he nahin hai,jinke baare mey SADGURUDEV ne kaha hai ki UNKE darshan matra sey param vairagya ki prapti hoti hai,( SWAMI SACHCHIDANAND STAVAN youtube mey hai usey plz suney !!!!) ab aap sab sochen ki JIN DADA GURUDEV JI k vishai mey yeh sab kaha gaya hai UNKA chitra agar aap k ghar mey sthapit ho gaya to kya aap itna pareshan honge? us gurubhai ki problem yeh hai ki uski patni bahut ladti hai and chillati hai and yahan tak ki usey maarti-peetti tak hai,aap batayen ki kya DADA GURUDEV JI k chitra ko ghar mey sthapit karkey pujan karney waley k sath aisa hoga?JINKI pujan-darshan karney ko swayam devi-devta aatur hon toh UNKA CHITRA paas hone par kya kisi ki patni k dwara uski durgati sambhav hai?kya roz marra k problem solve karney mey use itni mushkil aa sakti hai?arey jahan DADA GURUDEV JI k chitra ho and nitya pujan ho WOH JAGAH GURUDHAM JAISI PAVITRA,TEJMAI,SHAKTIMAI AND SAMPANN ho jayegi,devi-devta swatah he khinchey chaley aayengey and naaki us gurubhai k ghar jaisa hoga jahan har din kalah machi rahe isliye plz agar aap k paas internet sey prapt koi chitra hai jise aap DADA GURUDEV JI ka chitra samajh rahey hon to plz GURU-TRIMURTI sey confirm kar len coz meri rai mey GURU-MATAJI and GURU-TRIMURTI k alawa UNKA chitra kahin available nahin hoga,soch kar dekhen…. ???? jab SADGURUDEV dwara sthapit GURU-TRIMURTI hain,UNKI 3 MAGAZINES hai toh fir aap sab anya sthano sey gyan,pics,mantra kyon le lete hain?akhir in sab cheejo ki authenticity kya hai?kya SADGURUDEV and GURU-TRIMURTI k sahitya k alawa kahin aur sey prapt ki hui cheej authentic hai?agar hoti toh SADGURUDEV kyon nahin un logon ko pehle he GURUPAD per baitha dete jo aaj samaj mey SADGURUDEV k naam sey jhooth fraud guru ban baithey hain?plz sab chakkar choddhiye and SADGURUDEV,MATAJI and GURU-TRIMURTI ki sharan jaiye and aise sabhi chitra ko jo anyatra prapt hue hain unhe jaakey kisi nadi mey visarjit kar dijiye,saari anya magazines and e-magazines sey tauba kar lijiye,dhyan rakhiye har peeli chamakti cheej SONA(GOLD) nahin hoti,har kanch ka tukda HEERA(DIAMOND) nahin hota,JAI SADGURUDEV.


होली पर विशिष्ट लघु प्रयोग :

होली की रात्रि (जिस रात्रि होली में अग्नि लगाई जाती )साधकों और तांत्रिकों के लिए तो महत्वपूर्ण होती ही है परंतु आम व्यक्तियों के लिए भी कम महत्वपूर्ण नहीं होती ,क्योंकि इस दिन व्यक्ति अपनी बहुत सी या किसी भी समस्या का निदान साधनाओं या छोटे-छोटे प्रयोगों द्वारा कर सकता है | साधनाएँ बहुत लंबी होती हैं ,हर व्यक्ति के पास इतना समय नहीं होता कि ज़्यादा समय साधनाओं में दे सके.हालाँकि इस दिन की गयी 1 माला का प्रभाव लगभग 100 माला के बराबर होता है,इसलिए साधक और तांत्रिक लोग इस मुहूर्त का बहुत बेसब्री से इंतज़ार करते हैं,जिस से कम श्रम में लंबी साधनाएँ भी सिद्ध कर सकें |यहाँ हम कुछ ऐसे ही लघु प्रयोग देने जा रहे हैं ,जिनके द्वारा सामान्य व्यक्ति भी अपने दैनिक जीवन में आने वाली कई समस्याओं का स्माधान खुद कर सकते हैं,बस ज़रूरत है,श्रद्धा और विश्वास से इन लघु प्रयोगों को करने की |


मूल या बेसिक प्रयोग :


होलिका दहन की रात्रि में ,दहन के समय घर का प्रत्येक सदस्य होलिका को शुद्ध घी भिगोकर 2 लौंग ,1 बताशा और एक पान का पत्ता (डंडी सहित) अर्पित करे ,होली की 11 परिक्रमाएँ करें, 1 सूखा नारियल भी अर्पित करें ,परिक्रमा करते समय नये अनाज (जौ या गेहूँ के दाने)भी बाली सहित होलिका अग्नि को समर्पित करते रहें,कुंकुम,गुलाल और प्रसाद आदि अर्पित करें |

यदि आप घर पर भी होलिका दहन करते हैं तो मुख्य होली में से एक जलती लकड़ी घर पर लाकर नवग्रह की लकड़ियों (जो आजकल पूजा की दुकानों पर भी मिल जाती हैं) एवं गाय के गोबर से बने उपलो (गोबर से कहीं- कहीं बल्ग़ुरियाँ भी लोग बनाकर उपलो की जगह जलाते हैं)से घर पर होली प्रज्ज्वलित करना चाहिए |और ऊपर जो प्रयोग किया है ,उसे मुख्य होली पर ना करके घर पर भी कर सकते हैं,घर का प्रत्येक सदस्य शुद्ध घी में भिगोकर 2 लौंग,1 बताशा ,और पान का एक पत्ता ,और एक सूखा नारियल अर्पित करें, और फिर 11 परिक्रमाएँ होली की घर के सभी सदस्य करें |ये मूल प्रयोग है|


प्रयोग 1.ग्रह दोष निवारण के लिए:


यदि आपको कोई ग्रह पीड़ित कर रहा है तो होलिका दहन के अगले दिन होली की थोड़ी सी राख लाकर(ठंडी होने के बाद)अपने शरीर पर पूरी तरह(तेल की तरह)मल लें,और 1 घंटे बाद गरम पानी से स्नान कर लें,आप ग्रह पीड़ा से तो मुक्त होंगे ही,साथ ही यदि आप पर किसी ने अभिचार-प्रयोगकोई किया है ,तो आप उस से भी मुक्त हो जाएँगे |


ऐसा करना संभव ना हो तो होली के बाद किसी भी सर्वार्ट सिद्धि योग जिस दिन पड़ता हो,उस दिन होली की राख को बहते जल या किसी नदी या तालाब में विसर्जित कर दें,आप ग्रह बाधा से मुक्त हो जाएँगे |


प्रयोग 2.शनि दोष समाप्त करने के लिए :

यदि शनि ग्रह के कारण आपको परेशानियाँ आ रही हैं ,या कार्यों में व्यवधान आ रहा है ,तो होली वाले दिन,होलिका दहन के समय काले घोड़े की नाल या शुद्ध लोहे का छल्ला बनवाकर होली की 2 परिक्रमाएँ करने के बाद होलिका अग्नि में डाल दें |दूसरे दिन होली की अग्नि शांत होने उस छल्ले को निकाल कर ले आएँ |उस छल्ले को कच्चे दूध (गाय का हो,तो बेहतर) एवं शुद्ध जल में धोकर शनिवार के दिन सायंकाल या शनि की होरा में दाहिने हाथ की मध्यमा अंगुली में शनि देव जी का मंत्र पढ़ते हुए धारण कर लें|आपकी परेशानियाँ और व्यवधान धीरे- धीरे दूर हो जाएँगे |

प्रयोग 3.आर्थिक समस्या से मुक्ति के लिए :

यदि आप किसी तरह की आर्थिक समस्या से ग्रस्त हैं,तो होली की रात्रि में चाँद निकलने के बाद अपने निवास की छत पर आ जाएँ | चंद्र देव का स्मरण कर शुद्ध घी के दीपक के साथ धूप ,अगरबत्ती आदि अर्पित कर कोई भी सफेद रंग का प्रसाद (दूध या मावे से बनी कोई मिठाई) तथा साबूदाने की खीर अर्पित करें ,और अपने निवास स्थान सुख -शांति के साथ-साथ स्थाई आर्थिक समृद्धि के लिए प्रार्थना करें |बाद में प्रसाद को बच्चों में बाँट सकते हैं |कुछ समय बाद आप स्वयं अनुभव करेंगे कि आपकी आर्थिक समस्याएँ कम होकर लाभ की स्थिति बन रही है ,और उत्तरोत्तर यह आपको ये सुख -समृद्धि के द्वार तक ले जाएगी |इस उपाय को प्रत्येक पूर्णिमा को किया जा सकता है |

प्रयोग 4.आर्थिक समस्या का स्थाई समाधान :


इस उपाय को अगर होली की रात कर लिया जाए तो इसके प्रभाव से आप कभी भी आर्थिक समस्या में नहीं आएँगे |इसके लिए होली की रात्रि में सबसेपहले अपने घर या व्यावसायिक प्रतिष्ठान में शाम को सूर्यास्त होने के पूर्व दिया-बत्ती अवश्य करें |घर या प्रतिष्ठान की सारी लाइट जला देंघर केपूजा स्थल के सामने खड़े होकर लक्ष्मी जी का कोई भी मंत्र 11 बार मानसिक रूप से जपें |फिर घर या प्रतिष्ठान की कोई भी कील लाकर ,जिस स्थानपर होली जलनी है ,वहाँ की मिट्टी में दबा दें |इस उपाय से आपके घर/प्रतिष्ठान में किसी भी तरह की नकारात्मक शक्ति का प्रवेश नहीं होगा औरआप आर्थिक संकट में भी कभी नहीं आएँगे |


विशेष :- यदि ये करना संभव ना हो तो आप इसे इस तरह भी कर सकते हैं कि होली की रात्रि ,होली जलने के बाद आप बनने वाली थोड़ी गर्म राख घर ले आएँ,फिर घर के मुख्य द्वार के अंदर की तरफ ज़मीन पर कील रख कर उसके ऊपर होली की राख डाल दें और ऊपर से किसी चीज़ से ढक दें |दूसरें दिन कील को उपरोक्त विधि के अनुसार प्रयोग करें और राख को जल में प्रवाहित कर दें |इस से भी आपको उपरोक्तानुसार समुचित लाभ प्राप्त होगा |


प्रयोग 5.बार- बार आर्थिक हानि रोकने के लिए :

होलिका दहन की शाम को अपने मुख्य द्वार की चौखट पर दो मुखी आटे का दीपक बनाकर ,चौखट पर थोड़ा सा गुलाल छिड़क कर ,दीपक जलाकर उस पर रख दें | दीपक जलाते समय मानसिक रूप से अपनी आर्थिक हानि रोकने की प्रार्थना ईश्वर से करें|दीपक ठंडा हो जाने पर उसे जलती होलिका अग्नि में डाल दें |

प्रयोग 6.तंत्र -बाधा निवारण के लिए :

अगर आपको ऐसा लगता है कि किसी व्यक्ति ने आप पर या परिवार के किसी सदस्य पर कोई बड़ा तंत्र -प्रयोग करवाया है ,तो मूल प्रयोग को करने के साथ थोड़ी मिश्री भी होलिका अग्नि में समर्पित करें | अगले दिन होली की राख लाकर ,चाँदी के ताबीज़ में भर कर लाल या पीले धागे में ,गले में धारण करें /करवाएँ |

प्रयोग 7.रुके /फँसे धन की प्राप्ति के लिए :

यदि आपके धन को कोई व्यक्ति वापिस नहीं कर रहा है ,तो जिस दिन होलिका दहन होना है ,उस दिन होली जलने वाले स्थान पर जाकर ,उस स्थान पर अनार की लकड़ी की कलम से उस व्यक्ति का नाम लिख कर ,होलिका माता से अपने धन की वापसी की प्रार्थना करते हुए उसके नाम पर हरा गुलाल इस प्रकार छिड़क दें ,जिस से पूरा नाम गुलाल से ढक जाए,अर्थात नाम दिखाई ना दे | इस उपाय के बाद कुछ ही समय में वो आपके धन को वापिस कर देगा |

प्रयोग 8.आजीविका/नौकरी प्राप्ति के लिए :


होली की रात्रि में काले तिल के 21 दाने दाहिने हाथ में लेकर होलिका दहन के पूर्व 8 परिक्रमा करें,परिक्रमा करते समय निम्न मंत्र का मानसिक जपकरते रहें---


मंत्र :--"ॐ फ्राँ फ़्रीं सः |"

जब परिक्रमा पूर्ण हो जाए ,तो काले तिलों को चाँदी के ताबीज़ में भर कर होली की रात्रि को ही गले में धारण कर लेने से नौकरी में आने वाले व्यवधान दूर होते हैं |इंटरव्यू में भी ये पहन कर जाएँ,सफलता मिलेगी |


प्रयोग 9.शत्रु -बाधा निवारण के लिए :


होली की रात्रि में काँसे की थाली में कनेर के 11पुष्प तथा गूगल की 11 गोलियाँ रख कर जलती हुई होली में नीचे दिए मंत्र को पढ़ते हुए जलतीहोलिका में डाल दें -------


मंत्र :-"ॐ हृीं हुम फट .|"


प्रयोग 10.शत्रुता दूर करने के लिए :

होलिका दहन की दूसरी रात्रि को 12 बजे के बाद अनार की कलम से होली की राख में शत्रु का नाम लिखें और बाएँ हाथ से मिटा दें पुनः उसी स्थान पर एक उर्ध्व मुखी त्रिकोण बनाकर उसके बीच में "हृीं" लिख कर यंत्र बनाएँ.उसके बाद वहाँ से कुछ राख लेकर वापस आ जाएँ |ये राख शत्रु के सिर पर डालते ही उसकी शत्रुता समाप्त हो जाएगी |

प्रयोग 11.धन- प्राप्ति के लिए :


आर्थिक कष्ट दूर करने के लिए होली वाले दिन कमलगट्टा की माला लेकर होली की परिक्रमा करते हुए निम्न श्री यंत्र के मंत्र को 108 बार जप करें---


मंत्र :- "ॐ श्रीं हृीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद: प्रसीद: श्रीं हृीं श्रीं ॐ महालक्ष्म्ये नमः |"

मंत्र जप पूर्ण होने पर माला पहन कर होली के समीप गॉ-घृत का दीपक जलाकर घर लौट आएँ,फिर एक माला नित्य इस मंत्र की करते रहें |जल्दी ही धन-प्राप्ति के योग बनेंगे |


प्रयोग 12.स्वास्थ्य लाभ के लिए :


होलिका दहन के समय होली की 11 परिक्रमा करते हुए निम्न मंत्र का जप मन ही मन में करना चाहिए ----

मंत्र :---"देहि सौभाग्यम आरोग्यम ,देहि में पर मम सुखम |
रूपम देहि ,जयम देहि ,यशो देहि ,द्विशो जहि ||"


होली के बाद नित्य प्रातः इस मंत्र का कम से कम 11 बार अवश्य जप करें |

प्रयोग 13.तंत्र-बाधा (अभिचार-कर्म) निवारक प्रयोग :


होली की रात्रि में या किसी अन्य सिद्ध मुहूर्त में लकड़ी के बाजौट (चौकीपर लाल वस्त्र बिछाकर ,उस पर तांबे के पात्र में जल भर कर ,पान का एकपत्ता उसमें डाल कर रख दें |तांबे के पात्र को काले तिल की ढेरी पर स्थापित पर,सरसों के तेल का दीपक जला लें |फिर निम्न मंत्र की 21 माला जप करतांबे के पात्र में रखे जल को अभिमंत्रित कर ,पूरे घर में पान के पत्ते से छिड़काव करें |

जल की कुछ मात्रा घर का प्रत्येक सदस्य ग्रहण करे तो तंत्र-बाधा शांत होती है |



मंत्र :-" आं हृीं क्रों ऐन्ग "


काले तिलों को शनिवार के दिन बहते जल में विसर्जित कर दें |


प्रयोग 14.धन-सन्चय करने के लिए :
धन-सन्चय के लिए होली के दिन कौड़ी का पूजन का पूजन कर लाल वस्त्र में बाँध कर किसी अलमारी या संदूक में रख दें | इस दिन जो व्यक्ति कौड़ी अपने पास रखता है,उसे वर्ष भर आर्थिक अनुकूलता बनी रहती है |
जय ...... सदगुरुदेव

Happy Birthday Gurudev ! ..... Nikhil Janmotsav Ki Dhero ShubhKaamnaayein ! ..... Happy Happy 21st April ! ..... || Jai Gurudev ||


अष्टांग हवन सामग्री


१॰ चन्दन का बुरादा, २॰ तिल, ३॰ शुद्ध घी, ४॰ चीनी, ५॰ अगर, ६॰ तगर, ७॰ कपूर, ८॰ शुद्ध केसर, ९॰ नागरमोथा, १०॰ पञ्चमेवा, ११॰ जौ और १२॰ चावल।

http://dr-narayan-dutt-shrimali-ji.blogspot.com/



वर्तमान के दुःखों का कारण भूतकाल की अकर्मण्यता हैं

और
आज की अकर्मण्यता भविष्य के दुःखों का कारण बनेगी
इसलिए हमे विषम परिस्थितियों में भी अपने कर्म से विमुख नहीं होना चाहिए और अपने दायित्वों का पालन करते रहना चाहिए यही सुखमय भविष्यका गुप्त मँत्र है। 
ईष्ट या गुरु की साधना अपने उत्तरदायित्व की पूर्ति के लिए आवश्यक ऊर्जा प्राप्ति के निमित्त होना चाहिए न की जबरदस्ती ये अपना कर्म ही उन परथोप देने के लिए



"श्री " का निवास वही होता जहा इन बातो का ध्यान रखा जाता है जो इन नियमको नहीं समझता वो दुःख , रोग शोक से परेशान रहता है .. 


"श्री " का अर्थ यही है


भोजन करने सम्बन्धी कुछ जरुरी नियम

***********************************
1.पांच अंगो ( दो हाथ , २ पैर , मुख ) को अच्छी तरह से धो कर ही भोजन करे !
2. गीले पैरों खाने से आयु में वृद्धि होती है !
3. प्रातः और सायं ही भोजन का विधान है !किउंकि पाचन क्रिया की जठराग्नि सूर्योदय से 2 घंटे बाद तक एवं सूर्यास्त से 2 : 3 0 घंटे पहले तक प्रवलरहती है
4. पूर्व और उत्तर दिशा की ओर मुह करके ही खाना चाहिए !
5. दक्षिण दिशा की ओर किया हुआ भोजन प्रेत को प्राप्त होता है !
6 . पश्चिम दिशा की ओर किया हुआ भोजन खाने से रोग की वृद्धि होती है !
7. शैय्या पर , हाथ पर रख कर , टूटे फूटे वर्तनो में भोजन नहीं करना चाहिए !
8. मल मूत्र का वेग होने पर,कलह के माहौल में,अधिक शोर में,पीपल,वट वृक्ष के नीचे,भोजन नहीं करना चाहिए !
परोसे हुए भोजन की कभी निंदा नहीं करनी चाहिए !
10. खाने से पूर्व अन्न देवता , अन्नपूर्णा माता की स्तुति कर के , उनका धन्यवाद देते हुए , तथा सभी भूखो को भोजन प्राप्त हो इस्वर से ऐसी प्राथनाकरके भोजन करना चाहिए !
11. भोजन बनने वाला स्नान करके ही शुद्ध मन से, मंत्र जप करते हुए ही रसोई में भोजन बनाये और सबसे पहले ३ रोटिया अलग निकाल कर ( गाय , कुत्ता , और कौवे हेतु ) फिर अग्नि देव का भोग लगा कर ही घर वालो को खिलाये !
12. इर्षा , भय , क्रोध, लोभ ,रोग , दीन भाव,द्वेष भाव,के साथ किया हुआ भोजन कभी पचता नहीं है !
13. आधा खाया हुआ फल , मिठाईया आदि पुनः नहीं खानी चाहिए !
14. खाना छोड़ कर उठ जाने पर दुबारा भोजन नहीं करना चाहिए !
15. भोजन के समय मौन रहे !
16. भोजन को बहुत चबा चबा कर खाए !
17. रात्री में भरपेट न खाए !
18. गृहस्थ को 320 g से ज्यादा न खाना चाहिए !
19. सबसे पहले मीठा , फिर नमकीन , अंत में कडुवा खाना चाहिए !
20. सबसे पहले रस दार , बीच में गरिस्थ , अंत में द्राव्य पदार्थ ग्रहण करे !
21. थोडा खाने वाले को --आरोग्य , आयु , बल , सुख, सुन्दर संतान , और सौंदर्य प्राप्त होता है
22. जिसने ढिढोरा पीट कर खिलाया हो वहा कभी न खाए !
23. कुत्ते का छुवा, बासी , अनादर युक्त , अवहेलना पूर्ण परोसा गया भोजन कभी न करे !
24. कंजूस का, राजा का,वेश्या के हाथ का,शराब बेचने वाले का दिया भोजन कभी नहीं करना चाहिए
यह नियम आप जरुर अपनाये और फर्क देखें